Rsmssb Agriculture Supervisor Syllabus 2022

Rsmssb Agriculture Supervisor Syllabus 2022

यदि आप कृषि पर्यवेक्षक Agriculture Supervisor की सीधी भर्ती की तैयारी कर रहे हैं, तो यह पद आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दिए गए लिंक के माध्यम से Rsmssb Agriculture Supervisor Syllabus  2022 पीडीएफ डाउनलोड किया जा सकता है

, जिन उम्मीदवारों ने इसके लिए ऑनलाइन आवेदन किया है उन्हें नवीनतम परीक्षा पैटर्न दिया गया है जो आपकी तैयारी के लिए उपयोगी होगा।  नवीनतम पाठ्यक्रम जल्द आ रहा है आधिकारिक वेबसाइट वर्ग: परीक्षा तिथि Rsmssb कृषि पर्यवेक्षक परीक्षा पैटर्न

 

NAME OF SELECTION BOARD    Rajasthan Staff Selection Board, Jaipur

POSTS NAME                               Agriculture Supervisor

OFFICIAL WEBSITE                     www.rsmssb.rajasthan.gov.in

Exam Date                                    Coming soon

क्रम संख्या:-       विषय सूची                                    प्रश्न संख्या               अंक
1                      सामान्य हिन्दी                                    15                    45

2                     राजस्थान का सामान्य ज्ञान                    25                   75

3                    इतिहास और संस्कृति                               20                  60

4                    शस्य विज्ञान                                          20                  60

5                    उद्यानिकी                                             20                  60

6                    पशुपालन                                              20                  60

कुछ  महत्वपूर्ण बातें

  • वैकल्पिक प्रकार के प्रश्न पत्र होंगे
  • .. अधिकतम पूर्णांक  300 अंक होंगे
  • . प्रश्नों की संख्या  100
  • प्रश्न पत्र की समय 2 घण्टा होंगे।
  • प्रश्न के 3 अंक होंगे

प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक काटा जायेगा

Rajasthan Agriculture Supervisor Syllabus   2022 Topic Wise

 

भाग 1 : सामान्य हिन्दी

  • पशुपालन का कृषि में महत्व और गुण विशेषज्ञ गुण ऐं, बाहरी वातावरण का सामान्य ज्ञान
    गाय – गीर , थारकर , नागौरी , राठी , कर्मीन , मालवीन , हरियाणा , मेती ।
    भैसरा , सूरती , नील रावी , भदावरी , जाफरवादी , महसाना बकरी
    जमनापारी , बारबरी, विफल, टोग्निंग बारिंग ।कृमिन नैसर्गन तेल
    मारवाडी, चोका, मालपुरा, मेरीनो, कराकुल, जैसलमेर खे, अविवस्त्र, अवकाल।
  • जन प्रबंधक, आयु की आयु की गणना ।                                                                                              सामान्य पशु औषधियों के प्रकार , उपयोग , मात्रा और दैत्याघी का तरीका |                                                   रोग विषाणुरोधी रोग परमेगनेट (लाल रोग) लाई सॉल विरेचक मेगनेश ियमअरंडी का तेल बढ़ाने वाला, ।           नील तोथा , फीनो विशिंग ।तारपीन का तेल।
  • राजस्थान के रोग के रोगाणु के कारक कारक
    थनेला रोग, दुग्ध बुर, रानी खेत, चे चेचक, रक्तीपेचिस।
    दुग्ध उत्पाद, दुग्ध खिस संघटन, दुग्ध पर्शोषण, दुग्ध परीक्षण और परीक्षण ।
    ग्धा में वसा को पहचानना , क्षैत्रीय क्षमता दु, लवाता क्षैत्र की विधि कीटाणुओं की कीट कीट, पीन वौं
    विधि की दुग्धशाला के कीटाणुओं को कीटाणुरहित करना।
  • राजस्थान के आँवले के लेंस और वर्तन से सेटिंग । संक्रमण के संबंध में एक संधि – विच्छिन्न।
    प्रत्युत्तर के रूप में प्रत्यय वसीयत और उपसर्ग के साथ
    पद (सामासिक) पद की प्रकृति, पद (सामासिक) का विग्रह ।
    शब्द युग्म का अर्थ भेद ।
  • विनवाची शब्द और विलोम शब्द ।
    शब्द शुद्धि को गलत नहीं है
    मार्करों की पहचान करने के लिए मार्करों की पहचान करने के लिए मार्करों की पहचान करें
    फ़्रांस के एक प्रयोग शब्द
    पारिभाषिक संवाद से सिंक्रोनाइज़ेशन हिंदी शब्द |
    गुणन वाक्यों में कार्यक्षमता है ।
    लोको वाक्य में व्यावहारिकता है ।
    द्वितीय राजस्थान का सामान्य ज्ञान
  • . राजस्थान की भौगोलिक संरचना विभाजन , जलवायु प्रमुख पर्वत , नदियां , मरुस्थल और फसलें ।

2. राजस्थान का इतिहास

  • सभ्यताएं- कालीबंगा और अहड़ प्रमुख व्यक्तित्व- महाराणा कुंभा, महाराणा सांगा, महाराणा प्रताप राव जोधा, राव मालदेव के महाराजावंतसिंह, वीर दुर्गादास नौवेरिया के फेरा मानसिंह प्रथम, सवाई जयसिंह, बेकर फेरा गंगा सिंह आदि।
    राजस्थान के प्रमुख साहित्यकार
  • , लोक कला कलाकार, गीत कला, खेल और अन्य कलाकार।
    3भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में
    4. राजस्थानी बोलिया , कृषि , पशुपालन फ़्रीम की राजस्थानी ।
    5. कृषि , पशुपालन और व्यवसायिक ।
    6. लोक देवी – मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी
    7. प्रमुख पर्व पर्व, प्रिय-पर्वसुमेले ।

8. राजस्थानी लोक कथा, लोक गीत और नृत्य, मुहावरे, कहावतें, फड लोक नाट्य, लोक वादो और कठपुतली कला। 9. अलग-अलग जातियां 10. पहनावे के कपड़े और जेवर। 11. मूर्ति और हस्तशिल्पकला की कलादे की कलादे कला प्रस्तर शिल्पी, काष्ठ कला, मृदमा ( ) कला, उस्ता, हस्त कला नम – गलीचे आदि।

III : शस्य विज्ञान भाग

कृषि विज्ञान की स्थिति, कृषि और कृषि का ज्ञान राज्य में, कृषि और कृषि उत्पाद की गुणवत्ता और कृषि उत्पादों में मुख्य कृषि उत्पाद ऐं राजस्थान के जीव विज्ञान उत्पाद कृषि, जैविक कृषि उत्पाद विज्ञान और कृषि उत्पाद कृषि उत्पादों के लिए जैविक कृषि उत्पाद हैं। एवं आनुवंशिकी भाषा में परम्परागत शस्य फ्रैम के जीवाणुओं के गुण प्रकार और गुण और पोषक तत्व जन, वृहत् गुण और जैविक गुण होते हैं। , एकल, मिश्रित और पौष्टिक भोजन की गुणवत्ता में रोग की गुणवत्ता की गुणवत्ता, रोग के साथ रोग की गुणवत्ता, रोग की गुणवत्ता में वृद्धि,आनुवंशिकी भाषा में परम्परागत शस्य फ्रैम के जीवाणुओं के गुण प्रकार और गुण और पोषक तत्व जन, वृहत् गुण और जैविक गुण होते हैं। , एकल, मिश्रित और पौष्टिक भोजन की गुणवत्ता में रोग की गुणवत्ता की गुणवत्ता, रोग के साथ रोग की गुणवत्ता, रोग की गुणवत्ता में वृद्धि,

एंटाइटेलमेंट विशेषताएँ,

शक्तिशाली प्रभावी क्षमता, पावर की तुलना में, राजस्थान की मुख्य परीक्षा में प्रभावी नियंत्रक खरतों की भाषा में सक्षम हैं।

मुख्यो के लिए रोग, मिट्टी, फसल की कटाई, फसल कीटाणु, बीज उपचार, बीज बुवाई समय, बीजाई, स्प्रे, अंतःस्राव, पौध संरक्षण, फसल – मढाई, भैण्डा और फसल चक्र की जानकारी :

वायु , ज्वर, शत्रु , धान , और जी
अनाज फले दाल चॅवला, मसूर, उड़द, मोठ, चना और मटर।

– तिलहनी फसले – मेगनेट, तिल, अलसी, ई, , दारी, रम मयरा रेशे शेहे फसल फसले- ब्रेस रिजका और जैज।
मलाईदार फसले – ग्वार एवं ।
सौंफ , मैथी , जीरा और धनिया .
उन्नत बीज के गुण, बीज के उच्च गुणवत्ता वाले रोग विशेषज्ञ, मूल बीज बीज, प्रजनन बीज, आधार प्रमाणित बीज।
फसल की फसल को मिश्रित फसल, प्रकार और महत्व।
फसल चक्रीय गुण विकास के साथ कृषि की सफलता की गुणवत्ता की जानकारी और फसल की गुणवत्ता, सूखे की समस्या का निदान ।

भाग IV उद्यानिकी

उद्यानिकी फलों एवं सब्जियों महत्व, वर्तमान स्थिति एवं भविष्य फलदार पौधों की नर्सरी प्रबन्धन पादप प्रवर्धन, पौध रोपण फलोद्यान के स्थान का चुनाव एवं योजना उद्यान लगाने की विभिन्न रेखांकन विधियां पाला, लू एवं अफलन जैसी मौसम की विपरीत परिस्थितियां एवं इनका समाधान फलोद्यान में विभिन्न पादप सलाहकारों का उत्पाद प्रबंधकराजस्थान में जलवायु, मृदा, जलवायु रोग, प्रवर्धन गुणवत्ता, कीट व कृषि, फसल, फसल, कीट और गुणवत्ता औरकण्ट्रोल रोग की स्थिति की सूचना, नीम्बू वर्ग की सूचना, नीम्बू कक्षा, अमर, अमर, खजूर, खजूर, आन्वला, ऐंगर, लहसूवा बील आलू, प्याज, फूल गोभी, भिण्डी, भिण्डी, काली मिर्च, लहसून, मटर, गाजर, मूली, पालक फल और फली परीरशो का गुण, मूल स्थिति और भविष्य फल परीरशोक और डिबंडी, की तकनीक वैद्युतगतिविधि पद्धति में . फलपाक (जैम), अवलेह (नवत्), केन्डी, शर्बत, पानक (स्पेश) आदि को बनाने की की।

क्रियात्मक और खेती की खेती के बगीचे में सामान्य ज्ञान के हिसाब से बगीचे की खेती की जाती है।
भाग वी : पशुपालन प्रेक्षण
पशुपालन का कृषि में महत्व और गुण विशेषज्ञ गुण ऐं, बाहरी वातावरण का सामान्य ज्ञान:गाय – गीर , थारकर , नागौरी , राठी , होन न्यूट्रीशनल , मालवी , हरियाणा , मेती ।
भैसरा , सूरती , नील रावी , भदावरी , जाफरवादी , महसाना बकरी
जमनापारी , बारबरी, विफल, टोग्निंग बारिंग ।कृमिन नैसर्गन तेल
मारवाडी, चोका, मालपुरा, मेरीनो, कराकुल, जैसलमेर खे, अविवस्त्र, अवकाल।
जन प्रबंधक, आयु की आयु की गणना ।सामान्य पशु औषधियों के प्रकार , उपयोग , मात्रा और दैत्याघी का तरीका |
विषाणुरोधक – तापमान में तापमान,, ,ग्ध परिरक्षण , दुग्ध परीक्षण और दुर्गुण उत्पाद।
ग्धा में वसा को कीटाणुरहित करने के लिए , क्षैत्रीय क्षमता दू, लैक् क्षैत्र की विधि कीटाणुओं की आवश्यकताओं और कीट कीटाणुशोधक विधि के खराब होने पर कीटाणुशोधक कीटाणुशोधक कीटाणु रहित होते हैं।
राजस्थान के आँवले के लेंस और वर्तन से सेटिंग ।धातु परमेगनेट (लाल दवा) लाई विरेचक मेगनेश धातु (माइकस लूफ) अरण्डी का तेल शक्तिशाली इल्कोहल, कपूर।
नील तोथा , फीनो विशिंग ।
तारपीन का तेल।
राजस्थान के रोग के कारक के कारक लग, रोग उपचार – पशु – प्लेग , ख़रपका मुंहपका, डिक्री, एन्नेला रोग, गलघोटूटू, थनेला रोग, गुर्दा बुर, रानी खेत, कनक की चेचक, कीपीपेचिस।
दुग्ध उत्पाद

Leave a Comment

error: Content is protected !!