RSMSSB NTT Teacher Syllabus 2022

RSMSSB NTT Teacher Syllabus 2022

RSMSSB NTT Teacher Syllabus 2022 RSMSSB नर्सरी ट्रेनिंग टीचर सिलेबस 2022 RSMSSB प्राइमरी टीचर सिलेबस 2022 – अगर आप RSMSSB NTT Teacher की तैयारी कर रहे हैं तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

इस लेख में RSMSSB NTT Teacher Syllabus In Hindi के बारे में जानकारी दी गई है। साथ ही, आप नीचे दिए गए लिंक के माध्यम से राजस्थान एनटीटी शिक्षक पाठ्यक्रम 2022 पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं

Rajasthan NTT Teacher Syllabus 2022 Download

Name of the Selection Board          Rajasthan Staff Selection Board, Jaipur
Name of the Posts                           Nursery Teacher (Primary Teacher)
Official website                                rsmssb.rajasthan.gov.inExam date                                        Coming soon

क्रम संख्या            विषय सूची                                                    प्रश्न अंक         समय

  1.           बाल विकास 0 से 6 वर्ष                                           15                   3 घंटे
  2.          शारीरिक गतिशील विकास                                       10
  3.          सामाजिक और भावनात्मक विकास                           10
  4.           भाषाई विकास                                                      10
  5.           संज्ञानात्मक विकास                                              15
  6.          रचनात्मक विकास                                                  10
  7.         विशिष्ट बच्चे, मानसिक स्वास्थ्य और स्वच्छता           05
  8.         सीखने की प्रेरणा, रुचियां, आदतें और व्यवहार              10
  9.         सीखने की प्रक्रिया और शिक्षण के तरीके                      10
  10.         बच्चों की क्षमता का मूल्यांकन                                   05
  • कुछ महत्वपूर्ण बातें

1. प्रश्न पत्र में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे।
2. सभी प्रश्नों के कुल अंक 100 होंगे।
3. न्यूनतम अंक 40 है।

 

RSMSSB NTT Teacher  Syllabus 2022 Topic Wise

      1.   बाल विकास 0 से 6 वर्ष तक :

• बाल विकास की परिभाषा , अर्थ, संकल्प, क्षेत्र और बाल्य की विशेषताएँ ।
• बाल विकास में प्रजनन कीटाणु
• वृद्धि की वृद्धि और विकास-अंतर्विभाग, परिपक्वता और वृद्धि कारक – पर्यावरणीय व वात
• जनसंचार मॉड्यूल के विकास पर प्रभाव ।
• विज्ञान की उम्र और व्यक्तित्व व्यक्तित्व वाले तत्व

• बाल विकास- जन्म से 8 वर्ष की आयु तक बाल विकास चरण और चरण के विकास कार्य
• विकास की गति- शटव के चक्र पर चलने वाले व्यक्ति पर चलने पर प्रभावी ढंग से व्यवहार किया जाता है।
•निक उद्दीपन के प्रकार, महत्व और विकास पर प्रभाव
• शारीरिक और मनोमय स्वस्थः अर्थ और महत्व

      2.   शारीरिक गत्यात्मक विकास :

• शरीर के अलग-अलग विकास का भार भार। • शारीरिक विकास के चरण और विसंगतियां ।

• विशेष त्वचा , आँख, कान , न , हा , गल , नाईन आदि

• मेडिटेशन में सुधार और बेहतरी का विकास ।

• जन जीवन के निर्माण में समय व्यतीत करना – बनाना , मंजन बनाना , स्नान , – , मनोरंजक , शयन आदि ।                • गत्यात्मक कौशल विकास सूक्ष्म कौशल और 3 से 6 साल के लिए निष्क्रिय कौशल विकास कार्य क्रियाएँ

• का महत्व और प्रकार • हस्त कौशल विकास- अर्थ और महत्व

• सफाई के कमरे की सफाई, सफाई की सफाई, जल का संग्रहित सफाई के तरीके

         3. सामाजिक और   भावुकता विकासः

• सामाजिक विकास को विकसित करने वाले तत्व , शिक्षा समाज

• समाज और समाज के शिक्षक की समझ और ज़रूरतें ।

• सामाजिक विकास के चरण , शशवास्था में 6 साल तक सामाजिक सामाजिक व्यवहार के रूप में

• माता-पिता की सामाजिक भावना विकास में महत्वपूर्ण है

• परिवार के घर, परिवार के वातावरण, सामाजिक और मानसिक असंतुलन के प्रबंधन में असंतुलित का सदस्य बने सदस्या, सामाजिक और समाज-विरोधी व्यवहार करने के उपाय।

•प्रबंधन केंद्र में परिवार और समाज से व्यवस्था के तरीके

• अक्षम करने के लिए प्रेरित करने वाले व्यक्ति को प्रेरित करने वाला व्यक्ति प्राप्त करने के लिए

• संचार दैर्घ्य और एंटुबैषेण संचार केन्द्र, पोस्टेड ऑफिस, पंचायती दैवीबाडी केन्द्र आदि के बारे में सूचना का इन्सटाईट | •सामाजिक और संवाद वार्ता, मधुकर, अतिथिगृह, अतिथि के काम में संवाद पर वर्णन करते हैं – बैठक में वर्णन करना, विदा बैठकें, संवाद की ज़रूरतों को पूरा करना, संवाद की ज़रूरत है

• सामाजिक विकास आदि : – पर्व , मेनेना , घुमना , और राष्ट्रीय पर्व पर्व • माइक्रोब के भाव विशिष्ठताः- स्नेह, प्रेम, श्रम, रौला, आदि बालपन की शिशु की।
• के संवेगों की नियंत्रक नियंत्रण नियंत्रण
• व्यवहार में व्यवहारिक व्यवहार और नियंत्रण – कोध , अंगूठा छिछोना , नाँक कुतरना , आकामक रूख अपनाना झगड़ना , स्मॉर्टीलापन , स्व-अवधारणा वायुयान जैसे , बेड ग्लाइड कर आदि

    4. भाषा विकास :

• जीवन के प्रथम 6 वर्ष भाषा के विकास का मंच।

• जीवन पर 6 साल की भाषा विकास का बौद्धिक, सामाजिक, वैज्ञानिक वैज्ञानिक, तार्किक और व्यक्तित्व के विकास प्रभाव

• जीवन के प्रथम 6 वर्ष की भाषा विकास सहायक सामग्री और वातावरण

• भिन्न दोष दोष , प्रकार , प्रभाव और निवारण

• विज्ञान के जीवन में और विज्ञान का महत्व और तैयारी

• भाषा की गुणवत्ता : शब्द मंत्र , लघु कथा , लघु कथा, कविताएं व्याफिक की तकनीक की तकनीक की सलाह की तकनीक की पेशकश की भाषा विज्ञान वायु विज्ञान विज्ञान, पतन, तन्त्र तन्त्र, स्वस्वास्थ्य पठन, अर्थज्ञान ज्ञान पठन, कट्स और और एंट्रेंस तैयारी ।

                5. संज्ञानात्मक विकास   

विकास दिमागी के जीवन में ज्ञानेंद्रियों का महत्व,

  • प्रशिक्षण और पांचों ज्ञानेंद्रियों से ज्ञानेंद्रिय सीखने की क्रिया ।मस्तिक का विकास व ज्ञानेंद्रियां

शेंव में ज्ञानेन्द्रियों की सक्रियता।

  •  पर्यावरण और ज्ञानेन्द्रियों का संवाद
  • बुद्धि के लिए कार्य प्रस्तावना ।
  • मनोमय प्रक्रिया और कौशल :- -अवलोकन और स्मृति। – आय | – कम संबधित ।
  • समस्या समाधान | -पहचान।
  •  मनोमय से संबंधित कार्यकुशलताएं । •
  • एक से एक . • अलग-अलग प्रत्यय के लिए सहायक सामग्री का रंग , रूप , संख्या , भार , माप ,अंकपूर्व ज्ञान , आदि
    6. सृजनात्मक विकासः
  •  सृजनात्मक विकास अर्थ , मध्य और महत्व •
  • सृजनात्मक सृजनात्मकता / बुद्धि और सृजनात्मकता •
  • सृजनात्मकता विकास को प्रभावित करने वाले कारकसृजन दस्तावेज़: अलग-अलग कार्डों , चित्र योगी सामग्री का निर्माण , पेनसिल से स्वाधीन रूप से चित्रकंठ, सूखे पानी के उपकरण का अर्थ श्याम चित्र पर चित्र , काग कटाव , कार्ड बोर्ड से बना मॉडल को मोडना और स्टिकना , कौशल बनाना मिट्टी के उपकरण लकड़ी बनाने के टुकडों से और वाण्ा बनाना‌औराबाड़ी की स्वच्छता, सौन्दर्य्य
, . 7. विशिष्ठ मनोविकृति,

मनोमय स्वस्थ और स्वच्छताः

•विशेष का अर्थ , प्रकार , आईडी, शिक्षा और विशेष समाचार

• संवेगिश्रमिक रूप से विकार से संबंधित भेद, ईष्यालु, झगडालु, चिंतायुक्त कोधी और असामान्य विकार।

• अनसिक स्वस्थ- अर्थ और महत्व

• स्वच्छता- अर्थ और महत्व

  8.संचार प्रभाव, वातावरण, व्यवहार और व्यवहार :

• अधिगम अर्थ, प्रभावशाली घटक

• अधिगम वृद्धि और परिपक्वता प्रयास व दोष का सक्रिय अधिगम गुण पुन:बलन का गुण, अधिगम का स्थानान्तरण अतिवृद्धि परमाणु गुण के गुण आदि

• उत्प्रेरणा का अर्थ, महत्व, प्रभावशाली गुण, उत्प्रेरण के भिन्न उपाय

• अभिरूचि, आदत और धारणा- अर्थ, महत्व, विकास के उपाय।

9. जांच, प्रक्रिया और प्रक्रिया :

• विज्ञान के जीवन में और विज्ञान का महत्व और तैयारी • के समाधान की सामान्य तकनीकें,

गीत , गीत , देशभक्त गीत गीत , , , , कविताएं • सक्रिय अधिगम , प्रदर्शन , कहानी कह व पूरा करना ।  सीख से। •अलविदा • से सीख • पहेलियाँ आदि

10  दक्षता की रीडिंग :

• अर्थ और महत्व

• शरीर की शारीरिक, सामाजिक, सामाजिक, भाषाई विकास की भाषाएं।

• टेस्ट के मानदण्ड ब्रेकफास्ट तकनीकी या अलग-अलग परीक्षण आदि।

Leave a Comment

error: Content is protected !!